सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हेमधर शर्मा की दस कविताएँ

 

(1) . कविता के साथ-साथ



हो सकता है कि अच्छी न बने कविता
क्योंकि आँखों में नींद और सिर में भरा है दर्द
पर स्थगित नहीं हो सकता लिखना
लिखा था कभी
कि जीवन की लय को पाना ही कविता है
लय तो अभी भी टूटी नहीं
पर सराबोर है यह कष्टों और संघर्षो से
नहीं रोकूँगा अब इन्हें
कविता में आने से.
ओढ़ँगा-बिछाऊँगा
रखूँगा अब साथ-साथ कविता को.
जानता हूँ कठिन है
इजाफा ही करेगी यह
कष्टों-संघर्षो में
लेकिन मंजूर है यह.
साथ रही कविता तो
भयानक लगेगी नहीं मौत भी
कविता के बिना लेकिन
रास नहीं आयेगा जीवन भी.

 

(2). कठिन विकल्प


गुजरता हूँ जब गहन पीड़ा से
जन्म लेती हैं तभी, महान कविताएँ
इसीलिये नहीं करता मन
भागने का, अब कष्टों से
चुनता हूँ वही विकल्प
जो सर्वाधिक कठिन हो.
हताशा लेकिन होती है
शक्ति के अभाव में जब
चिड़चिड़ा उठता है मन.
होती महसूस तब
प्रार्थना की जरूरत
इसलिये नहीं कि कम हो जायँ दुख-कष्ट
बल्कि शक्ति मिले उन्हें सहने की.
इसीलिये बार-बार
हार कर भी आता उसी जगह पर
चुनता हूँ कठिन विकल्प
स्वेच्छा से दुख-कष्ट.
फीनिक्स पक्षी की तरह
मरता हूँ बार-बार
जीता हूँ फिर-फिर
अपनी ही राख से.
 

(3). अंतहीन यात्रा 


जब भी लगता है सब ठीक-ठाक
और नहीं घेरती मन को चिंता
घबरा जाता हूँ अचानक
टटोलता हूँ अपनी सम्वेदनाएँ
कि मरीं तो नहीं वे!
दरअसल समय इतना कठिन है
कि चिंतामुक्त रहना भी अपराध है
मिले हैं मुङो विरासत में
प्रदूषित पृथ्वी और रुग्ण समाज
खूब कमाना और खूब खाना ही है
मेरे समकालीनों का जीवन लक्ष्य
कि त्याग का मतलब अब
तपस्या नहीं पागलपन है
फिर कैसे रह सकता भला मैं चिंतामुक्त!
इसीलिये आता जब
कभी क्षण खुशी का
होता भयभीत भी हूँ साथ ही
कि पथरा तो गईं नहीं सम्वेदनाएँ!
टूटता है बदन और
आँखें भी बोङिाल हैं नींद से
फिर भी लिखता कविता
डरता हूँ सोने से
कि नींद अगर रास्ते में आ गई
तो शायद कभी न हो सवेरा.
 

(4) . ग्लोबलाइजेशन


खुश होता था कभी
ग्लोबलाइजेशन के नाम से
इसी के तो देखता था
सपने साहित्य में
दुनिया सब एक हो
सबमें हो भाई-चारा
करें सब विकास मिल.
लेकिन मैं ठगा गया
नाम तो वही था पर
छद्म वेश धारण कर
कोई और आ गया.
करता ही जा रहा यह
हत्याएँ गाँवों की
नष्ट कर सब संस्कृतियाँ
अपने ही पैर यह
फैलाए जा रहा
अरे, कोई मारो इसे
यह तो हत्यारा है!
नष्ट करता जा रहा
खेत-खलिहानों और
गाँवों-जवारों को.
सुनता पर कोई नहीं चीख मेरी
शामिल हैं लोग उसके साथ सब
लड़ते हैं गुरिल्ला जो
लैस वे भी दीखते हैं
उसी के हथियारों से.
 

(5). महँगा सौदा


कारण तो कुछ भी नहीं
खुश है पर आज मन.
बैठता जब सोचने
आता है याद आज
घटी नहीं कोई दुर्घटना
नींद में भी आया नहीं
कोई दुस्वप्न.
जानता हूँ ऐसा तो
था नहीं हमेशा से
घोर अभावों में भी
मिलती थी नींद भरपूर कभी.
दूर अब अभाव सारे कर लिये
सुविधाएँ हासिल सब हो गईं
लेकिन जो पास था सुकून तब
दूर वही हो गया
जाना पड़ता है अब
हँसने को लाफ्टर क्लब
आती नहीं नींद गोलियों से भी
तरक्की तो हो रही है रोज-रोज
तेजी से भागता मैं जा रहा
छूटता ही जा रहा पर
सुख-चैन पीछे.
सोचता हूँ कभी-कभी
सौदा महँगा तो नहीं!
 

(6). जीवंत कविता


करता था कोशिश जब
खिलने की कविता
भागती थी दूर वह
परछाईं सी आगे-आगे
छोड़ लेकिन पीछा जब
शुरू किया जीना तो
पीछे-पीछे रहती वह
हरदम परछाईं सी.
मिलते ही अब तो
फुरसत के पल-दो पल
लेते ही कापी पेन
लिखे चला जाता हूँ
रुकने का नाम ही अब
लेती नहीं कविता.
होड़ मची रहती है
आगे निकलने की
लिखने और जीने में.
जान गया हूँ अब यह
नाभिनालबद्ध है
जीवन से कविता
इसीलिये जीता हूँ
लिखने के पहले इसे
कविता सा बन गया है जीवन अब
हो गई है जीवंत कविता भी.
 

(7). निशाचर


पढ़ते हैं बच्चे जब किताबों में
कि मिलती है ताजगी-
उठने से तड़के
लगती यह बात उन्हें
किस्से-कहानियों की.
जानता हूँ समझाना व्यर्थ है
इसीलिये करता हूँ कोशिश
खुद कर दिखाने की.
हमला लेकिन इतना जबर्दस्त है
कि टिक नहीं पाती हैं
मेरी अच्छाइयाँ.
चुम्बक जैसे रहते हैं चिपके
टीवी से देर रात
फैशन बन गया करना
डिनर आधी रात को.
नींद नहीं होने से
बेहद कठिन होता है
उठना सुबह-सुबह
उनींदी आँखों से ही
भागते हैं स्कूल वे.
बेमानी हो गईं
कहानियाँ रामायण की
काल्पनिक से लगते हैं राम-कृष्ण
बनते ही जा रहे अब
बच्चे निशाचरों से.


(8). दोष-पाप


अविश्वास तो रहा नहीं
जरूरत भी लेकिन कभी
पड़ी नहीं ईश्वर की
ढोता रहा सलीब अपनी
लज्जास्पद लगता था
पापों को अपने
ईश्वर को सौंपना.
देखा पर उस दिन जब
आलीशान गाड़ी में
सवार परिवार को
दे रहा था टुकड़े जो रोटी के
बाजू में खड़े उस भिखारी को
सिर से उतार अपने पाँव तक
दूर करने दोष-पाप
काँप गया भीतर तक.
फटेहाल है जो पहले से ही
कैसे भिखारी वह ङोलेगा
बड़े-बड़े पापियों के दोष-पाप!
याद आया ईश्वर तब
हाथ जोड़ पहली बार
करने लगा प्रार्थना
संचित हों मेरे अगर पुण्य कुछ
मिलें वे इस कृषकाय भिक्षुक हो.
लालसा मुङो नहीं सुख-सुविधा की
पाता पर जैसे मैं
मिलती रहे भिक्षुक को भी दाल-रोटी
ङोलना पड़े न उसे
दूसरों का दोष-पाप
इसीलिये करता अर्पण उसको
अपना सब पुण्य कार्य.
 

(9) . आत्म संघर्ष-1


हर गलती मुङो असहज कर देती है
अन्याय-अत्याचार देख खौल उठता है खून
लेकिन देखता हूँ जब ध्यान से
दिखाई देती हैं उसकी जड़ें
मेरे भीतर भी.
अनगिनत बारीक नसें
पहुँचाती हैं मेरा भी खून
करती हैं पोषण
अत्याचार के उस वृक्ष का
और रुक जाते हैं हाथ
करने से प्रहार
उसकी मोटी जड़ पर
क्योंकि लगते ही घाव उस पर
तेजी से बहेगा खून
मेरे शरीर से
सम्भव नहीं है ऐसे
लड़ना अपने आप से.
इसीलिये काटता हूँ
अपनी बारीक जड़ें
जुड़ीं जो उस वृक्ष से
होता लथपथ खून से.
काटे बिना लेकिन
अपने को उस वृक्ष से
सम्भव नहीं लड़ना अत्याचार से


(10). आत्म संघर्ष-2


तरक्की तो हो रही है रोज-रोज
बाहर भी भीतर भी
शांति नहीं मिलती पर मन को
भटक गई सी लगती है
दिशा विकास की.
जितना ही बढ़ता हूँ आगे
खाई भी बढ़ जाती है
संगी-साथियों के बीच
पाता जिन्हें आसपास
अजनबी वे लोग हैं.
भेद तो लिया है चक्रव्यूह को
कहलाते लोग जो बड़े-बड़े
जान गया राज उनका
पहुँच गया आसपास
इस्तेमाल किये बिना
उनके हथियारों का.
चाहता बताना अब
अपने संगी-साथियों को
आगे बढ़ने का ठोस रास्ता
चाहिये जो इसके लिये
मेहनत भरपूर उनके पास ह
जरूरत नहीं है छल-छद्मा की
पोली होती है नींव जिसकी.
तोड़ते ही नहीं पर वे
दायरे को अपने
बना नहीं पाते हृदय को उदार
बुनियादी फर्क नहीं दीखता
उनके और बड़ों के बीच
मिल गई इन्हें जो धन-संपदा
भेद नहीं कोई रह जायेगा
इनके-बड़ों के बीच
अजनबी से ये भी बन जायेंगे.
चाहता हूँ इसीलिये
स्वेच्छा से लौटना
रास्ता बताना उन्हें
आगे बढ़ने का नया
ताकि आगे बढ़ कर वे
बन न जायँ उन्हीं बड़ों जैसे ही
खो न जाय उनकी भी मनुष्यता
महँगा है सौदा वह.
उतर नहीं पाता हूँ नीचे पर
पहले की तरह दुख-तकलीफों को
ङोल नहीं पाता हूँ शिद्दत से.
बढ़ता हूँ जितना ही आगे
उतने ही दूर होते जाते संगी-साथी
भीड़ बढ़ती जाती अजनबियों की आसपास
बढ़ती जाती है बेचैनी भी साथ-साथ
इससे बचने का कोई
देता सुझाई नहीं रास्ता.


(इसी वर्ष प्रकाशित कविता संग्रह 'माँ के लिए' से)

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सत्य तक पहुँचने-पहुँचाने का प्रयास है गीतांजलि

११ मई २०११ को नागपुर के दीनानाथ हाईस्कूल में गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर की १५० वीं जयंती के निमित्त युवा कवियों के विचार नामक कार्यक्रम आयोजित हुआ. इसमें श्री अरिंदम घोष, श्रीमती इला कुमार, श्रीमती अलका त्यागी, श्री अमित कल्ला के अलावा मैंने यानि पुष्पेन्द्र फाल्गुन ने भी अपने विचार रखे. मैंने वहाँ जो कहा, वह आपके पेशे-खिदमत है. पढ़कर कृपया अपनी राय से अवगत कराएं...

रवीन्द्रनाथ टैगोर की कालजयी काव्यकृति गीतांजलि को यदि मुझे एक वाक्य में अभिव्यक्त करना हो तो मैं कहूँगा, 'सत्य तक पहुँचने-पहुँचाने का प्रयास है गीतांजलि।' गुरुदेव रवीन्द्रनाथ के किसी कविता की ही पंक्तियां हैं;
सत्य ये कठिन
कठिनेरे भालोबासिलाम
से कखनो करे ना बंचना
(सत्य तो कठिन है, लेकिन इस कठिन से ही मैंने प्रेम किया, क्योंकि यह सत्य कभी वंचना नहीं करता।)

      गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर का समूचा साहित्य फिर चाहे वह काव्य हो, नाटय हो, कथा-कादंबरी हो, हर कहीं सत्य ही उद्भाषित होता है, सत्य ही उद्धाटित होता है, सत्य की ही पक्षधरता है। गीतांजलि में सत्य की पक्षधरता के साथ-साथ सत्य प्राप्ति के उपाय सर्वाधिक प्रखर हैं। प्रखरत…

दूध वाला भैया

वह भैया है या अंकल उसे नहीं पता, बस वह इतना जानता है कि उसका जन्म दूध बेचने के लिए ही हुआ है। बाप-दादा यही करते रहे, सो उसे भी यही करना है। बाप-दादा भी यह जानते थे कि उसे यही करना है, इसीलिए जब वह सातवीं क्लास में अपने मास्साहब की कलाई काट कर घर भाग आया था, तो वे दोनों जोर से हँस पड़े थे।
वह रोज गाँव से शहर आता है दूध बेचने। पहले साइकिल से आता था, लेकिन इधर एक साल पहले जब उसने दाढ़ी वाले नेताजी के मुंह से विकास का नाम और मतलब सुना था, तब से वह रात दिन अपने विकास की फ़िक्र में घुलने लगा था, लिहाजा उसके बाप ने उसकी शादी कर दहेज़ में एक मोटरसाइकिल मांग ली। तो वह अब दूध बेचने मोटरसाइकिल पर गाँव से शहर आता है।
अभी चार-पांच दिन पहले की बात है। अखबार में छपा था कि भीषण गर्मी पड़ रही है। तापमान ४७ डिग्री सेल्सियस तक पहुँच गया था। उस दिन, वह अपनी मोटरसाइकिल से दूध देने शहर की और भागा जा रहा था। अचानक शहर से दस किलोमीटर पहले उसकी मोटरसाइकिल भुक-भुक कर बंद पड़ गई। अभी वह नीचे उत्तर कर यह समझने की कोशिश ही कर रहा था कि कल रात दस बजे तक अच्छी चलने वाली मोटरसाइकिल, आज अचानक क्यों बंद पड़ गई कि सड़क से गुज…

मेरी दिनचर्या

जिस रोज़ मैं गलतियां करता हूँ, उस रोज़ मैं दूसरों की गलतियां सहजता से नज़रंदाज़ कर देता हूँ... जिस रोज़ मैं गलतियां नहीं करता, दूसरों की एक गलती भी मुझे नागवार गुजरती है... :) :)) :)))