सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्यों जरूरी है फाल्गुन विश्व का प्रकाशन?



   इसलिए जरूरी है फाल्गुन विश्व का प्रकाशन -

- ताकि प्रतिरोध और असहमतियों की आवाजों के लिए जगह बची रहे.

- ताकि रूबरू होता रहे आम पाठक अपने समय-सत्ता-समाज से.

- ताकि मुझे जीने का मकसद मिले.

- ताकि तुम्हें जीने का मकसद मिले.

- ताकि बेहतर दुनिया बनाने का हमारा सपना आकार पाए...

- ताकि संभावनाएं अशेष रहें

- ताकि विडम्बनाएं मुक्ति पायें

- ताकि समता और इन्साफ हमारे समाज का चरित्र बनें

- ताकि हर कोई बन सके अपना दीपक स्वयं, ''अत्त दीपो भव"

आइये मिलजुलकर इस अभियान को आगे बढ़ाएं

फाल्गुन विश्व पढ़े-पढ़ाएं

एक अंक - मूल्य १० रूपए मात्र

सालाना ग्राहकी महज १०० रूपए में 

आजीवन सदस्यता शुल्क - १,००० रूपए मात्र

अंक पाने के लिए editorfalgunvishwa@gmail.com पर मेल करें.

सालाना ग्राहक अथवा आजीवन सदस्य बनने के इच्छुक सीधे फाल्गुन विश्व के खाते में अपनी राशि जमा करा सकते हैं. 
खाते का विवरण इस प्रकार है.
फाल्गुन विश्व
खाता क्रमांक 3122623992 
सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया
शाखा कन्हान, नागपुर

कृपया बैंक में राशि जमा कराने के पश्चात अपना नाम और पता मोबाइल क्रमांक 09372727259  पर एस.एम्.एस. करें.

आइये हमकदम बनें, हमनवा बनें
बेहतर दुनिया का सपना साकार करें...




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सत्य तक पहुँचने-पहुँचाने का प्रयास है गीतांजलि

११ मई २०११ को नागपुर के दीनानाथ हाईस्कूल में गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर की १५० वीं जयंती के निमित्त युवा कवियों के विचार नामक कार्यक्रम आयोजित हुआ. इसमें श्री अरिंदम घोष, श्रीमती इला कुमार, श्रीमती अलका त्यागी, श्री अमित कल्ला के अलावा मैंने यानि पुष्पेन्द्र फाल्गुन ने भी अपने विचार रखे. मैंने वहाँ जो कहा, वह आपके पेशे-खिदमत है. पढ़कर कृपया अपनी राय से अवगत कराएं...

रवीन्द्रनाथ टैगोर की कालजयी काव्यकृति गीतांजलि को यदि मुझे एक वाक्य में अभिव्यक्त करना हो तो मैं कहूँगा, 'सत्य तक पहुँचने-पहुँचाने का प्रयास है गीतांजलि।' गुरुदेव रवीन्द्रनाथ के किसी कविता की ही पंक्तियां हैं;
सत्य ये कठिन
कठिनेरे भालोबासिलाम
से कखनो करे ना बंचना
(सत्य तो कठिन है, लेकिन इस कठिन से ही मैंने प्रेम किया, क्योंकि यह सत्य कभी वंचना नहीं करता।)

      गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर का समूचा साहित्य फिर चाहे वह काव्य हो, नाटय हो, कथा-कादंबरी हो, हर कहीं सत्य ही उद्भाषित होता है, सत्य ही उद्धाटित होता है, सत्य की ही पक्षधरता है। गीतांजलि में सत्य की पक्षधरता के साथ-साथ सत्य प्राप्ति के उपाय सर्वाधिक प्रखर हैं। प्रखरत…

दूध वाला भैया

वह भैया है या अंकल उसे नहीं पता, बस वह इतना जानता है कि उसका जन्म दूध बेचने के लिए ही हुआ है। बाप-दादा यही करते रहे, सो उसे भी यही करना है। बाप-दादा भी यह जानते थे कि उसे यही करना है, इसीलिए जब वह सातवीं क्लास में अपने मास्साहब की कलाई काट कर घर भाग आया था, तो वे दोनों जोर से हँस पड़े थे।
वह रोज गाँव से शहर आता है दूध बेचने। पहले साइकिल से आता था, लेकिन इधर एक साल पहले जब उसने दाढ़ी वाले नेताजी के मुंह से विकास का नाम और मतलब सुना था, तब से वह रात दिन अपने विकास की फ़िक्र में घुलने लगा था, लिहाजा उसके बाप ने उसकी शादी कर दहेज़ में एक मोटरसाइकिल मांग ली। तो वह अब दूध बेचने मोटरसाइकिल पर गाँव से शहर आता है।
अभी चार-पांच दिन पहले की बात है। अखबार में छपा था कि भीषण गर्मी पड़ रही है। तापमान ४७ डिग्री सेल्सियस तक पहुँच गया था। उस दिन, वह अपनी मोटरसाइकिल से दूध देने शहर की और भागा जा रहा था। अचानक शहर से दस किलोमीटर पहले उसकी मोटरसाइकिल भुक-भुक कर बंद पड़ गई। अभी वह नीचे उत्तर कर यह समझने की कोशिश ही कर रहा था कि कल रात दस बजे तक अच्छी चलने वाली मोटरसाइकिल, आज अचानक क्यों बंद पड़ गई कि सड़क से गुज…

मेरी दिनचर्या

जिस रोज़ मैं गलतियां करता हूँ, उस रोज़ मैं दूसरों की गलतियां सहजता से नज़रंदाज़ कर देता हूँ... जिस रोज़ मैं गलतियां नहीं करता, दूसरों की एक गलती भी मुझे नागवार गुजरती है... :) :)) :)))