सोमवार, 16 मई 2011

तलाश

(दिया मिश्रा एक रेखांकन)

मंजिल की तलाश उन्हें होती है
जिन्हें चलने (रास्तों) से डर लगता है...

नाव, नाविक और समुद्र

समग्र चैतन्य - पुष्पेन्द्र फाल्गुन मित्र ने कहा, ‘समंदर कितना भी ताकतवर हो, बिना छेद की नाव को नहीं डुबो सकता है.’ तो मैंने एक क...