शुक्रवार, 4 मार्च 2011

खड़े होना है अपने ही खिलाफ

जब तक नहीं खड़े होंगे हम अपने भीतर के सामंत के खिलाफ
तब तक हम बने ही रहेंगे, 
मालिक, नौकर, बागी, प्रशंसक या चाहे जो,
लेकिन पुख्ता हुक्म के गुलाम
हुक्म देने के गुलाम, 
हुक्म मानने के गुलाम
ज्यादा उदार हुए तो हुक्म देते हुए 
बिल्कुल फुसफुसाते हुए लोकतंत्र का हवाला भी दे देंगे
ज्यादा समझदार हुए तो हुक्म मानते हुए 
हुक्म न मानने वालों की फेरहिस्त का बोसा करेंगे चुप-छिप कर
हुक्म देने वाले को हुक्म मानने वाले से श्रेष्ठ समझेंगे
या फिर हुक्म मानने वाले को हुक्म देने वाले से बेहतर कहेंगे
इस तरह धीरे-धीरे एक दिन 
हम भी हो जाएंगे पूर्णकालिक मालिक, नौकर, बागी, प्रशंसक या चाहे जो
लेकिन पुख्ता हुक्म के गुलाम
इसलिए जिन्हें यह मालूम हैं कि उनके भीतर जरा भी है खिलाफत की आग
खड़े होना होगा उन्हें सबसे पहले अपने भीतर के सामंतवाद और अपने भीतर के सामंत के खिलाफ

 

नाव, नाविक और समुद्र

समग्र चैतन्य - पुष्पेन्द्र फाल्गुन मित्र ने कहा, ‘समंदर कितना भी ताकतवर हो, बिना छेद की नाव को नहीं डुबो सकता है.’ तो मैंने एक क...