शुक्रवार, 11 मार्च 2011

परछाई



हवा के रुख
समय के साथ
प्रगति और प्रणति के खिलाफ
उगती
पनपती
मचलती
और इठलाती है परछाई

इतिहास में 
किसी भी परछाई का जिक्र नहीं मिलता।

(शीघ्र प्रकाश्य कविता संग्रह 'चेतुल' से)

नाव, नाविक और समुद्र

समग्र चैतन्य - पुष्पेन्द्र फाल्गुन मित्र ने कहा, ‘समंदर कितना भी ताकतवर हो, बिना छेद की नाव को नहीं डुबो सकता है.’ तो मैंने एक क...