सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ये खन्ना जी हैं, नहीं रघुबीर सिंह हैं

नागपुर, संतरा नगरी नागपुर, आदिवासी गोंड राजाओं द्वारा तीन सौ साल पहले बसाया गया एक ऐसा शहर जिसकी तासीर में वह सबकुछ है, जो एक शहर को शहर बनाए रखने के लिए होनी चाहिए. रघुबीर सिंह चालीस की उम्र में नागपुर आये. पिता इन्हें ट्रांसपोर्ट व्यवसायी बनाना चाहते थे, लेकिन वे इस दांवपेंच भरे व्यवसाय से दूर ही रहना चाहते थे. रघुबीर सिंह का परिवार तकसीम के बाद रावलपिंडी से पहले दिल्ली और फिर जबलपुर आया. सभी भाई अलग-अलग पेशों में 'फिट' हो गए. तकसीम के समय तक रघुबीर सिंह, बर्मा में इंजीनिअरिंग मिलिटरी सर्विस में बतौर इंजीनिअर कार्यरत थे. वहाँ ड्यूटी के दौरान हुए हादसे के बाद अँगरेज़ आला अधिकारियों और जापानी सहयोगियों द्वारा दिखाई गई उपेक्षा और बेपरवाही से बगावत कर उन्होंने नौकरी त्याग दी. जबलपुर आये.  पिता ने ट्रांसपोर्ट व्यवसाय से जोड़ लिया. उनदिनों नागपुर मध्यप्रदेश की राजधानी था. रघुबीर सिंह की लारियाँ नागपुर से सामान लेकर जबलपुर आया-जाया करतीं. ब्रेक- डाउन अथवा वसूली के लिए उन्हें भी नागपुर आना-जाना पड़ता. उनदिनों अपनी बुलेट मोटर साइकल से रघुबीर सिंह खन्ना महज साढ़े चार घंटे में लगभग पौने तीन सौ किलोमीटर की दूरी तय कर लेते थे. एक दिन एक व्यापारी से माल लदाई को लेकर ठन गई, सो इस व्यवसाय को ही उन्होंने राम-राम कर लिया.
रघुबीर सिंह किशोरावस्था से ही वामपंथी रूझान रखते रहे. जबलपुर में वामपंथी माहौल बनाने में इनका भी अविस्मरणीय योगदान है. आज रघुबीर सिंह ८८ बरस के हैं. उनकी पीढ़ी के वामपंथी, फिर चाहे वे जहां भी हों, रघुबीर सिंह को भूले नहीं होंगे. जब वामदलों में तकसीम हुई तो रघुबीर सिंह ने दोनों ही पार्टी से किनारा कर लिया. एक इंसान जिसने देश और दिल के तकसीम को देखा-भुगता था, मानो अब किसी और बंटवारे के लिए तैयार न था.
इस दुःख से उबरने के लिए ही उन्होंने नागपुर आकर भाई के प्रकाशन व्यवसाय को संबल देने का निश्चय किया, लेकिन यहाँ पहुंचकर जो चुनौतियां उन्होंने देखी-झेली, उसने उन्हें अपना प्रकाशन संस्थान शुरू करने के लिए प्रेरित किया.
खन्ना जी के नाम से प्रकाशन व्यवसाय में ख्यात रघुबीर सिंह को अपने ख्यात नाम की जगह अपना मूल नाम ही पसंद है. मैं उन्हें गत बीस वर्षों से जानता हूँ, लेकिन आज तक मैंने उन्हें कभी किसी की निंदा करते अथवा किसी के लिए अपशब्द कहते नहीं सुना. आपसे यदि वह कोई बात कहेंगे तो शुरू कुछ इस तरह करेंगे, 'मैं आपसे अर्ज़ करता हूँ कि.....' आपकी किसी बात से वे यदि असहमत हुए और गुस्सा भी गए तो आपको सेठ साहब कह देंगे.
इनदिनों वे अपनी पुस्तक दूकान को नए सिरे से सवारने में लगे हुए हैं. कहते हैं किताबों और पाठकों के बीच में जितना ज्यादा स्पेस होगा उनमें उतना ही संवाद की संभावना बनेगी. उनकी दूकान में बहुत-बहुत सी किताबें हैं, लेकिन उन किताबों तक पहुँचने के लिए पाठकों को ज़रा मशक्कत करनी पड़ जाती थी, सो उन्होंने नया इंतजाम कर दिया.
रघुबीर सिंह ने ही गजानन माधव मुक्तिबोध की पहली किताब 'भारत : इतिहास एवं संस्कृति' को १९६२ में प्रकाशित किया था. उस समय डाक्टर शंकर दयाल शर्मा मध्यप्रदेश के शिक्षा मंत्री थे और उन्होंने इस किताब की अहमियत समझ कर इसे 'टेक्स्ट बुक' की तरह पाठ्यक्रम में शामिल किया था. जब किताब छपी तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का नागपुर से छपने वाले दैनिक मुखपत्र 'युगधर्म' ने इस किताब की प्रसंशा में कसीदे पढ़े, लेकिन जैसे ही यह किताब पाठ्यक्रम में शामिल हुई, 'युगधर्म' ने हाय-तौबा मचा दी. आर.एस.एस के इशारे पर जनसंघियों ने इस किताब की होली जलाई और सरकार से तुरंत इसे पाठ्यक्रम से हटाने की मांग करते हुए हिंसक आन्दोलन करने लगे. तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री मंडलोई जी नी शंकर दयाल शर्मा जी से इसे पाठ्यक्रम से हटाने को कहा, तो शर्मा जी ने यह कहते हुए मना कर दिया कि, 'हमने ही इसे लगाया है, हम नहीं हटाएंगे, बतौर मुख्यमंत्री, गृहमंत्री, विधि मंत्री आप चाहे जो निर्णय करें.' भारत: इतिहास एवं संस्कृति को पाठ्यक्रम से हटा दिया गया. रघुबीर जी सरकार के इस फैसले के खिलाफ उच्च न्यायालय गए, न्यायालय में मुक्तिबोध जी ने भी जज महोदय को ऐसी पंद्रह पुस्तकों की सूची दी, जिन पर बैन उसी वजह से लगाना चाहिए जिस वजह से उनकी किताब पर लगा, उन पंद्रह किताबों में पंडित जवाहर लाल नेहरु और श्यामाप्रसाद मुखर्जी कि किताबें भी थी. उच्च न्यायालय ने भारत: इतिहास एवं संस्कृति को 'टेक्स्ट' की बजाय 'रेफरेंस' बुक मानने की सालाहियत दी. यह मामला १९६४ में ख़त्म हुआ. इस किताब का सम्पादन हरिशंकर परसाई जी ने किया था.
रघुबीर सिंह को और एक किताब को लेकर अदालत के चक्कर लगाने पड़े, और उस मामले में भी अदालत ने यही कहा, इस किताब को पाठ्य-पुस्तक की बजाय सन्दर्भ पुस्तक मना जाए, लेकिन पुणे विश्वविद्यालय की उप-कुलपति ने यह कहते हुए अदालत के आदेश की अवेहलना की कि, 'इन जजों को क्या पता कि विद्यार्थियों के लिए कौन सी किताब अच्छी है और कौन सी नहीं.' ये उप-कुलपति महोदय थे प्रोफेसर कुलकर्णी, उन्होंने विवादित किताब को पाठ्य-पुस्तकों की सूची से हटाने से मना कर दिया. बाद में कई अन्य विश्विद्यालयों ने भी उक्त विवादित किताब को बतौर पाठ्य-पुस्तक अपने-अपने पाठ्यक्रम में शामिल किया, और आज भी उक्त किताब महाराष्ट्र के कई विश्विद्यालयों में बतौर पाठ्य-पुस्तक शामिल है. उक्त किताब है' मध्य युगीन भारताचा इतिहास' और इसके लेखक हैं एम्. एम्. देशपांडे. किताब पर इसलिए विवाद था कि इस किताब के जरिये लेखक दुनिया के सामने इस मिथ पर से पर्दा उठा रहे थे कि संत रामदास छत्रपति शिवाजी के गुरु नहीं थे. यह किताब रघुबीर सिंह खन्ना ने १९७१ में छापी थी और १९७२ में अदालत ने इसे रेफरेंस बुक करार दिया था. आज भी स्नातकीय पाठ्यक्रम में यह पुस्तक विद्यार्थियों को सही जानकारी दे रही है और भारत: इतिहास और संस्कृति किताब की दूकानों में पड़ी धूल खा रही है. सिर्फ हिंदी बेल्ट की भीरुता की वजह से.
रघुबीर जी से मिलेंगे तो वे भी यही अफ़सोस आपसे जाहिर करेंगे. 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सत्य तक पहुँचने-पहुँचाने का प्रयास है गीतांजलि

११ मई २०११ को नागपुर के दीनानाथ हाईस्कूल में गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर की १५० वीं जयंती के निमित्त युवा कवियों के विचार नामक कार्यक्रम आयोजित हुआ. इसमें श्री अरिंदम घोष, श्रीमती इला कुमार, श्रीमती अलका त्यागी, श्री अमित कल्ला के अलावा मैंने यानि पुष्पेन्द्र फाल्गुन ने भी अपने विचार रखे. मैंने वहाँ जो कहा, वह आपके पेशे-खिदमत है. पढ़कर कृपया अपनी राय से अवगत कराएं...

रवीन्द्रनाथ टैगोर की कालजयी काव्यकृति गीतांजलि को यदि मुझे एक वाक्य में अभिव्यक्त करना हो तो मैं कहूँगा, 'सत्य तक पहुँचने-पहुँचाने का प्रयास है गीतांजलि।' गुरुदेव रवीन्द्रनाथ के किसी कविता की ही पंक्तियां हैं;
सत्य ये कठिन
कठिनेरे भालोबासिलाम
से कखनो करे ना बंचना
(सत्य तो कठिन है, लेकिन इस कठिन से ही मैंने प्रेम किया, क्योंकि यह सत्य कभी वंचना नहीं करता।)

      गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर का समूचा साहित्य फिर चाहे वह काव्य हो, नाटय हो, कथा-कादंबरी हो, हर कहीं सत्य ही उद्भाषित होता है, सत्य ही उद्धाटित होता है, सत्य की ही पक्षधरता है। गीतांजलि में सत्य की पक्षधरता के साथ-साथ सत्य प्राप्ति के उपाय सर्वाधिक प्रखर हैं। प्रखरत…

दूध वाला भैया

वह भैया है या अंकल उसे नहीं पता, बस वह इतना जानता है कि उसका जन्म दूध बेचने के लिए ही हुआ है। बाप-दादा यही करते रहे, सो उसे भी यही करना है। बाप-दादा भी यह जानते थे कि उसे यही करना है, इसीलिए जब वह सातवीं क्लास में अपने मास्साहब की कलाई काट कर घर भाग आया था, तो वे दोनों जोर से हँस पड़े थे।
वह रोज गाँव से शहर आता है दूध बेचने। पहले साइकिल से आता था, लेकिन इधर एक साल पहले जब उसने दाढ़ी वाले नेताजी के मुंह से विकास का नाम और मतलब सुना था, तब से वह रात दिन अपने विकास की फ़िक्र में घुलने लगा था, लिहाजा उसके बाप ने उसकी शादी कर दहेज़ में एक मोटरसाइकिल मांग ली। तो वह अब दूध बेचने मोटरसाइकिल पर गाँव से शहर आता है।
अभी चार-पांच दिन पहले की बात है। अखबार में छपा था कि भीषण गर्मी पड़ रही है। तापमान ४७ डिग्री सेल्सियस तक पहुँच गया था। उस दिन, वह अपनी मोटरसाइकिल से दूध देने शहर की और भागा जा रहा था। अचानक शहर से दस किलोमीटर पहले उसकी मोटरसाइकिल भुक-भुक कर बंद पड़ गई। अभी वह नीचे उत्तर कर यह समझने की कोशिश ही कर रहा था कि कल रात दस बजे तक अच्छी चलने वाली मोटरसाइकिल, आज अचानक क्यों बंद पड़ गई कि सड़क से गुज…

मेरी दिनचर्या

जिस रोज़ मैं गलतियां करता हूँ, उस रोज़ मैं दूसरों की गलतियां सहजता से नज़रंदाज़ कर देता हूँ... जिस रोज़ मैं गलतियां नहीं करता, दूसरों की एक गलती भी मुझे नागवार गुजरती है... :) :)) :)))